Blog

।।इन्तज़ार।।

इन्तज़ार है मुझे उस दिन का

जिस दिन मेरा देश आज़ाद हो जाएगा

अंग्रेज़ गये थे छोड़ कर जब

उस दिन मेरा देश आज़ाद कहलाया था

लेकिन मुझे इन्तज़ार है उस दिन का

जिस दिन मेरा देश आज़ाद हो जाएगा।

दलालों से भरी सरकारें हैं

औरतों पर ज़ुल्म ढेर सारे हैं

मंत्री हमारे भ्रष्ट कयी सारे हैं

फिर भी आज़ाद भारत के नागरिक कहला रहे हैं

मुझे इन्तज़ार है उस दिन का

जिस दिन हर व्यक्ति भारतीय कहलाएगा

मुझे इन्तज़ार है उस दिन का

जिस दिन न कोई हिन्दू मस्जिद तोड़ेगा

न कोई मुसलमान मंदिर तुड़वाएगा

और न कोई RSS वाला भगवां लहराएगा

मुझे इन्तज़ार है उस दिन का

जिस दिन हर व्यक्ति लिए हाथ में तिरंगा

खुद को भारतीय बताएगा

मुझे इन्तज़ार है उस दिन का

जिस दिन हर व्यक्ति लिए हाथ में तिरंगा

खुद को भारतीय बताएगा।।

The Golden Bird

Oh! Meu land of gold

What have they done to thee

Even the British didn’t tale away

What thy people have taken from thee.

Those who came from farlands

Acknowledged thy beauty

And added

A lot more grace to thee.

But thy people

Have become so mean

They are just interested

In filling their pockets with green.

Where are we going?

What are we heading towards?

Is this the same India

Which was called, “The Golden Bird “?!!

।।हिंद।।

आज उन वीरों को याद करो

उन देशभक्तों की पुकार सुनो

शौर्य को अपने तुम जगाओ

भारत को अपने तुम सजाओ

रक्शक बनकर इस आज़ादी के

अपने देश के गौरव को तुम बढाओ

राष्ट्रगीत गाओ

तिरंगा लहराओ

आज़ादी के इस पर्व पर

उन क्रांतिकारियों की शहादत को सलाम करो

हो सके, ज़्यादा नहीं ओ थोड़ा ही

उन शहीदों के गुणों का स्वीकार करो

उन वीरों को मिलकर याद करो

उनकी शहादत को दिल से सलाम करो

उनकी वीरता के गुणगान करो

उन्हें आज तुम याद करो

उनकी शहादत को प्रणाम करो।।

।।आज़ादी।।

जिसका शेर सा था हौंसला 

जिसकी हाथियों सी थी चाल

मौत भी डरती थी मिलाने को नज़रें जिसके साथ

वो वीर था

वो शेर था

वो शहीद-ए-आज़म भगत सिंह था

उसके जैसा सूरमा

न किसी माँ ने कभी जनमा

न कभी जनमेगी कोई माँ

ये आज़ादी उससे है

ये देश उससे है

फिर क्यों भूल गये उसकी शहादत को

क्यों करते हो याद सिर्फ़ नेहरू और गाँधी बापू को?

उसकी वीरता को सलाम करो

उसकी शहादत को प्रणाम करो

चढ गया फाँसी जो तुम्हारे लिए हँसते हँसते

उसे भी तुम कभी याद करो

उसे भी तुम कभी याद करो।।

A Question

On those blooded streets

Seeing her death coming close

She asked the Almight God

“Is this the same creation of yours that you arr so proud of”?

While leaving this cruel world

She left behind a question for us all

“Is this the way we treat women”?

The women who gave us birth!

With tears in her eyes

And in a broken low voice

She asked,

“What is it that I have done wrong to end where I am”?

“Is it the length of my clothes”?

“Or just the filthy intentions of that narrow minded man”?

So right she was

So correct her questions were

Those molesters didn’t spare a woman wearing ‘Hijab” too

Nor did they leave a kid in a frock

And you tell me

‘Ut was the mistake of that poor girl wearing jeans and top’!?

Desolate

When I look back

I  cherish things that I had

And also think

About those I didn’t.

When I look back

I wonder what I did

To end where I am

And ask myself then

Is this what I wanted?

By my past being haunted?

15492399_1177325789024480_115626468543161776_n

I didn’t love her

Because I chose to

I loved her

Because I was destined to.

She was not whom I wanted

She was whom I needed.

I loved her for my survival

In my moments of fear

She was my Holy Bible

But now…

Life has changed big time

Neither can I be hers

Nor can she be mine.

I can just love her

Without her knowing it

Because now I fear

To once again ruin it.

॥ औरत ॥

​औरतों का दर्जा ऊँचा होता है

औरतों का औधा ऊँचा होता है
बिन औरतों के तो
हमारा घर सूना सूना सा होता है।
घर एक पूजा है
जिसका आशीर्वाद वे हैं।
घर एक कहानी है
जिसकी साहित्यकार वे हैं।
घर वो सदी है
जिसकी जवानी वे हैं।
घर वो रुह है
जिसकी रुहदारी वे हैं।

उनके बिना तो सिर्फ़ एक मकान है
जिसकी छत एक
और दीवारें चार हैं।
उनसे बनता है वो घर
जहाँ खिलखिलाती हैं खुशियाँ
जहाँ बहती हैं हँसी की नदीयाँ
और सूर्य की किरणें आती हैं करने उजागर
एक सवेरा नया।
वे कारण हैं हमारे अस्तित्व का
वे कारण हैं हमारी सफलता का
जिस घर में होती हैं औरतें
उस घर में ही होता है वास माँ लक्ष्मी और माँ दुर्गा का।

कन्याओं का करते हम पूजन हैं
तो बाकी दिन कहाँ चले जाते हैं वो संस्कार
जब करते हैं हम उनका अपमान
और उनके ऊपर अत्याचार।
मत सोच कि तू इनके बिना जी लेगा
तू यह सोच
कि तूझे करते देख निरादर इनका
तेरा रब्ब तेरे बारे में क्या सोचता होगा।
जिस औरत की कोख़ से लिया जन्म तूने
तू अब उसे ही मारना चाह रहा है
क्या इतना बड़ा हो गया है तू
कि अपने रब्ब के बाणों से बाण लड़ा रहा है।
क्या यही है सीखा तूने?
अपने लड़कों को तू खिला रहा है
और लड़कियों को खून के आँसू रुला रहा है।
तू इन पर कर भरोसा
ये ते सम्मान बढाएँगी
और तू इन्हे पराया धन कहता है
जो आज हैं, कल चली जाएँगी।

इस तरह से संभाल इन्हें
इस कदर तू इन्सें पाल
कि तेरा लड़का गलत ना सीखे तुझसे
और ना करे कोई ऐसा काम
जिससे तेरा सर झुक जाए शर्मिंदगी से
और मच जाए तेरे जीवन में बवाल।
सच कहता हूँ, ऐ बन्दे
ध्यान से सुन
वक्त आ गया है
कि अब तू बदल
और जहाँ ख़ड़ा है
वहाँ से मुड़।
अब तू अपनी सोच में परिवर्तन ला
और मेरी ये बात, अपने दिल में बिठा
इनपे अब तू भरोसा कर
इन्हें करने दे जो ये चाहती हैं
और यकीन कर
ये तेरे लिए दुआएँ ही लाएँगी
और तेरा हर ज़ख्म
तेरा हर दुःख
ये हँसते हँसते झर जाएँगी।

Void

People we trust

Let us down

People we don’t

Save us when we are about to drown.

People we love

Make us cry

People we don’t

Ignore our faults, just to see us smile.

Some leave us

When we need them to lead our way

While some remain

Inspite of having every reason to walk away


It is not about how many people do we meet

But…

About those few, who on us will never cheat

Whom to shake hands with, we need to learn

Because life is not always about    ‘Holding on’!

Sometimes it is about letting go

Things that no longer help us grow.

A Trip

In the desert of Thar

On a trip so memorable

Sitting on the burning sand

I saw a camel.

His eyes blinking monotously

With constant gaps in between

As the ship of desert cried

Cried for a drop of water to drink.

I saw his master’s face

So calm and composed it was

Inspite of the burning heat

Not a single sign of worry it showed.

Bearing that heat all his life

He grew old in that sand

Working for his family day and night

On his face,

He still supported a smile as that of a carefree child.

Don’t Wait!

6874560581_694e45e1f3_o
Why Wait?
The Valentine’s Day is approaching again. A day to express your feelings to the person you love. A day to speak your heart out in front of your beloved. A day to begin a new relation. Maybe!
There might be many people out there waiting for Valentine’s Day to express their feelings. But I guess there is no need to wait. If you feel for someone, if you love someone, tell them there and then. Why wait? Why keep your feelings upto you?
The right time to do anything is when you start thinking about it.
Maybe, people think that if they propose a girl on Valentine’s Day, she won’t say No! But there is nothing like that. At least not in the era we are living in.
You see, if you wait, you might end up waiting forever. If you don’t have the courage to propose a girl on any other day, Mind You! you cannot propose her, even if it is “Valentine’s Day”.
Don’t bound yourself to express your feelings and emotions towards someone on some particular day or time. Express them on any day. It will either be a Yes! or a No! There won’t be anything better or worse than that.
It’s not that if she says ‘Yes’ on Valentine’s that she’s gonna promise to marry you no matter what.
So, people, go out and speak your heart to the person you love. Have the courage. And have faith in God.
He will do what is right for you. And what is meant to be, will find a way.
Love truly, express your feelings and say “I Love you” with a commitment-with all your heart, with all your soul and with all your might.